अध्ययन का दावा, गर्मियों में बढ़ जाती है युवकों के मरने की आशंका

लंदन ;  

अमेरिका में रहने वाले युवकों के गर्मियों में मरने की अधिक आशंका है. एक अध्ययन में इसका दावा किया गया है. पत्रिका ‘ईलाइफ’ में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार यह करीब चार दशक में किए उन अध्ययनों में रेखांकित किए गए तथ्यों में से एक है, जो सार्वजनिक स्वास्थ्य रणनीतियों को अभी एवं भविष्य में होने वाली मौतों को कम करने में मदद करेगा.

ब्रिटेन में ‘इंपीरियल कॉलेज लंदन’ के रॉबी पार्क ने कहा, ‘‘यह पूरी तरह से स्थापित है कि मृत्यु दर साल के विभिन्न महीनों में अलग-अलग होती है, लेकिन इसके बारे में अधिक जानकारी मौजूद नहीं है कि कैसे यह स्थानीय जलवायु के हिसाब से बदलती है, और कैसे यह अलग-अलग उम्र में विभिन्न बीमारियों के लिए समय समय पर बदलती है.

इसमें वर्ष 1980 से 2016 के बीच 8,58,54,176 पंजीकृत मौत के आंकड़ों पर अध्ययन किया गया. ‘वेवलेट विश्लेषण’ तकनीक का इस्तेमाल कर इसका आकलन किया गया है. इसमें समय के साथ ‘मूविंग विंडो’ के माध्यम से मृत्यु दर का अध्ययन किया जाता है. इसमें परिवर्तनों का पता चलता है. अध्ययन में पाया गया कि 45 वर्ष और उससे अधिक उम्र के पुरुषों में कुल मृत्यु दर (मृत्यु का कोई भी कारण) और 35 वर्ष और उससे अधिक उम्र की महिलाओं में मृत्यु दर दिसंबर, जनवरी या फरवरी में उच्चतम होती है और जून से अगस्त में सबसे कम.

इसके विपरीत, पांच वर्ष और 34 साल की उम्र के पुरुषों में कुल मृत्यु दर (मृत्यु का कोई भी कारण) सर्वाधिक जून और जुलाई में होती है जबकि 45 साल से कम उम्र के स्त्री-पुरूषों दोनों के लिए चोट से होने वाली मौत गर्मियों में सबसे ज्यादा होती है. शोधकर्ताओं ने पाया कि पांच से 14 और 15 से 24 वर्ष आयु वर्ग के पुरुषों में गर्मियों और सर्दियों में होने वाली मौत के आंकड़ों में अंतर 25 प्रतिशत से भी अधिक था.

loading...