उपचुनावों में BJP का निराशाजनक प्रदर्शन, विपक्षी एकता को मिला बल

लखनऊ ;

कैराना सहित देश के अलग-अलग हिस्सों में हुए लोकसभा और विधानसभा उपचुनावों में बीजेपी की हार के बाद विपक्षी दलों ने 2019 के लोकसभा चुनावों में एकजुटता का आह्वान किया है. कैराना में एकजुट विपक्ष ने बीजेपी को उपचुनावों में करारी शिकस्त दी. कांग्रेस ने उपचुनावों के परिणाम को नरेंद्र मोदी के शासन के खिलाफ जनादेश और बीजेपी के साम्राज्य के अंत की शुरुआत करार दिया. वहीं समाजवादी पार्टी ने कहा कि लोग बीजेपी को करारा जवाब दे रहे हैं.

राष्ट्रीय लोक दल (आरएलडी) के नेता जयंत चौधरी ने कहा कि एकजुट विपक्ष ने उत्तर प्रदेश में सत्तारूढ़ दल के नफरत के रथ को रोकने में सफलता पाई है. उन्होंने उम्मीद जताई कि एकजुट विपक्ष आगामी लोकसभा चुनावों में बीजेपी को हराने की गति को कायम रखेगा. उनकी पार्टी के उम्मीदवार ने कैराना सीट पर बीजेपी को हराया.

पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने कहा कि लोगों का मोहभंग हो गया है और कहा कि अब क्षेत्रीय दल काफी मजबूत हो गए हैं. 11 राज्यों में लोकसभा की चार और विधानसभा की 10 सीटों पर हुए उपचुनावों में विपक्षी दलों ने 11 सीटों पर जीत दर्ज की और बीजेपी तथा इसके सहयोगियों को तीन सीटों तक सीमित कर दिया.

बीजेपी और इसकी सहयोगी एनडीपीपी ने क्रमश: पालघर (महाराष्ट्र) और नगालैंड संसदीय सीटों पर जीत दर्ज की वहीं उसने उत्तराखंड के थराली विधानसभा सीट पर जीत दर्ज की. एनसीपी ने भंडारा गोंदिया संसदीय सीट पर बीजेपी को पराजित कर दिया. कांग्रेस को तीन सीटें मिलीं (मेघालय, कर्नाटक और पंजाब) जबकि अन्य को छह सीटें झामुमो को दो सीटें झारखंड में, माकपा, सपा, आरजेडी और तृणमूल कांग्रेस को एक-एक सीट क्रमश: केरल, उत्तर प्रदेश, बिहार और पश्चिम बंगाल में मिलीं.

लखनऊ में अखिलेश यादव ने संवाददाताओं से कहा कि यह उन लोगों की हार है जो लोकतंत्र में विश्वास नहीं रखते और विभाजनकारी राजनीति करते हैं. लोगों ने बीजेपी को करारा जवाब दिया है. यह किसानों, गरीबों और दलितों की जीत है.  सपा ने उत्तर प्रदेश में नूरपुर सीट पर बीजेपी को हराया जहां सपा का समर्थन विपक्षी दल कर रहे थे. इससे पहले बीजेपी गोरखपुर और फूलपुर लोकसभा सीट भी हार चुकी है.

कांग्रेस नेता प्रमोद तिवारी ने कहा कि सारी चीजें बिल्कुल स्पष्ट हैं. उन्होंने मोदी सरकार पर आरोप लगाया कि उसने पिछले चार वर्षों में गरीबों और किसानों की पूरी तरह उपेक्षा की. पंजाब के मुख्यमंत्री और कांग्रेस नेता अमरिंदर सिंह ने कहा कि पूरे देश में बीजेपी का प्रदर्शन खराब चल रहा है जो स्पष्ट रूप से 2019 के चुनावों से पहले लोगों के मूड का संकेत है. अमरिंदर ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सत्ता में वापस नहीं आएंगे, देश में अगली सरकार कांग्रेस की बनेगी.

राष्ट्रीय जनता दल (आरजेडी) के नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि उनके पिता लालू यादव ने बीजेपी का मुकाबला करने के लिए विपक्षी एकता का आह्वान किया था जो देश में आकार ले रहा है. भाकपा ने उपचुनावों में एकजुट विपक्ष की जीत को धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक ताकतों की जीत बताया जो बीजेपी की सांप्रदायिक राजनीति को परास्त करने के लिए एक साथ आ रहे हैं.

भाकपा नेता डी. राजा ने कहा, ‘उपचुनाव के परिणाम दिखाते हैं कि बीजेपी लगातार नीचे की तरफ जा रही है. गुजरात, कर्नाटक से बीजेपी का पतन शुरू हुआ था और 2019 के लोकसभा चुनावों में यह निश्चित रूप से नजर आएगा. धर्मनिरपेक्ष लोकतांत्रिक ताकतों ने महसूस किया कि उन्हें एकजुट होना चाहिए. लोग बीजेपी को छोड़ रहे हैं क्योंकि उन्हें बीजेपी का सांप्रदायिक एजेंडा समझ में आ रहा है.’

दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने कहा कि उपचुनाव के नतीजों से पता चलता है कि लोग प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार से नाराज हैं और उन्हें हटाना चाहते हैं. केजरीवाल ने कहा कि परिणाम से पता चलता है कि देश भर के लोग मोदी सरकार से नाराज हैं. लोग अब तक कह रहे थे कि उनके पास क्या विकल्प है. अब वे कह रहे हैं कि मोदी विकल्प नहीं हैं और लोग उन्हें हटाने को कह रहे हैं.

loading...