दिल्ली प्रदूषण: पिछले साल श्रीलंका टीम, अब रणजी खिलाड़ी मास्क पहन कर मैदान में उतरे

नई दिल्ली ;  

दिल्ली में पिछले साल की तरह इस साल भी प्रदूषण की समस्या काफी चिंताजनक हो गई है. इस साल दिवाली से पहले ही दिल्ली में प्रदूषण स्तर काफी ज्यादा हो गया है. सुप्रीम कोर्ट तक को पटाखों की बिक्री को लेकर दिशा निर्देश जारी कर केवल ग्रीन पटाखों की बिक्री की ही इजाजत दी है.  इस साल भी इस प्रदूषण का साया क्रिकेट पर दिखाई दे रहा है. पिछले साल श्रीलंका क्रिकेट टीम का भारत दौरा के दिल्ली टेस्ट में श्रीलंकाई खिलाड़ी मैदान में मास्क लगाकर उतरे थे. अब रणजी ट्रॉफी में भी ऐसा ही कुछ नजारा देखने को मिला जब दिल्ली के करनैल सिंह स्टेडियम में एक खिलाड़ी मास्क पहन कर उतरा.

एक नवंबर को देश का प्रतिष्ठित घरेलू टूर्मामेंट रणजी ट्रॉफी शुरू हुई. देश कई शहरों में इसके मैच शुरू हुए. इनमें से ग्रुप-ए के पहला मैच मुंबई और रेलवे के बीच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान में शुरू हुआ. इस मैच में भी प्रदूषण का असर तब दिखा जब मुंबई का एक खिलाड़ी मास्क पहनकर बल्लेबाजी करने उतरा.  इस मैच में मुंबई ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी को चुना. इस पारी के दौरान जब सिद्धार्थ लाड बल्लेबाजी करने उतरे तो सभी यह देखकर हैरान रह गए कि वे मास्क लगाकर बल्लेबाजी करने उतरे. सिद्धार्थ के अलावा आदित्य तारे, और धवल कुलकर्णी भी मास्क लगाकर मैदान में उतरे हालाकि सूर्यकुमार यादव ने बिना मास्क के बल्लेबाजी की.

ऐसा ही कुछ वाक्या साल भर पहले भारत-श्रीलंका टेस्ट सीरीज के दौरान भी देखने को मिला जब श्रीलंकाई खिलाड़ी मैदान में मास्क पहन कर उतरे हैं. 2017 में 2 से 6 दिसंबर के बीच दिल्ली के फिरोजशाह कोटला मैदान पर भारत और श्रीलंका के बीच टेस्ट मैच चल रहा था तब श्रीलंकाई खिलाड़ी मैदान में मास्क लगाकर उतरे थे. कई खिलाड़ियों ने मैदान में फील्डिंग के दौरान उल्टी भी थी. तब श्रीलंका टीम की इस बात पर आलोचना भी हुई, लेकिन आईसीसी ने भी मामले का संज्ञान लिया था. बीसीसीआई को भी नवंबर दिसंबर महीने में कोई अंतरराष्ट्रीय मैच नहीं कराने का फैसला लेना पड़ा था. इससे पहले भी साल 2016 में प्रदूषण की वजह से बंगाल और गुजरात के बीच कोटला स्टेडियम में एक मैच रद्द कर दिया था.

सिद्धेश के पिता दिनेश लाड पश्चिम रेलवे के पूर्व खिलाड़ी रह चुके हैं और रेलवे ने उन्हें अपनी सीनियर टीम के लिए पर्यवेक्षक नियुक्त किया है. दिलचस्प बात यह है कि सिद्धेश इस मैच में उसी टीम के खिलाफ खेल रहे हैं. जिसके पर्यवेक्षक उनके पिता हैं.

सूर्यकुमार यादव (83) और सिद्देश लाड (नाबाद 80) ने अपनी संघर्षपूर्ण पारियों के दम पर खेले जा रहे रणजी ट्रॉफी के ग्रुप-ए के पहले मैच में पहले दिन मुंबई को रेलवे के खिलाफ खराब शुरुआत से बाहर निकालकर अच्छी स्थिति में पहुंचा दिया. मुंबई ने पहले दिन का अंत पांच विकेट के नुकसान पर 278 के साथ किया. मुंबई के तीन विकेट 98 रनों पर ही गिर गए थे. इसके बाद सूर्यकुमार और लाड ने चौथे विकेट के लिए 125 रनों की साझेदारी कर टीम को संभाला.  इसके बाद दूसरे दिन मुंबई की पहली पारी 411 रन पर आउट हो गई थी. इसमें शिवम दुबे का शतक शामिल था. वहीं दूसरे दिन का खेल खत्म होने तक रेलवे ने 115 रनों पर छह विकेट गंवा दिए.  रेलवे के लिए हर्ष त्यागी ने चार और अनुरीत सिंह एवं अविनाश यादव ने तीन-तीन विकेट अपने नाम किए.

loading...