मोबाइल चोरी के इल्जाम में शख्स ने 17 साल काटी जेल की सजा, बाद में निकला निर्दोष

 वाशिंगटन ; 

हर इंसान की तकदीर भी कोई चीज होती है, यह बात कुछ घटनाएं बार-बार याद दिलाती हैं. ऐसा ही कुछ हुआ है एक अमेरिकी शख्स के साथ. दरअसल, एक अमेरिकी रिचर्ड ए. जोन्स पर आज से करीब दो दशक पहले कंसास में वालमार्ट पार्किंग से एक मोबाइल फोन चुराने का आरोप लगा और उन्हें जेल की सजा हो गई. जोन्स 17 साल तक जेल में रहे. जेल के अन्य कैदी उसे एक अन्य कैदी रिकी एमोस का हमशक्ल बुलाते थे. इस दैरान जोन्स हमेशा कहते रह गए कि वह निर्दोष हैं.

जोन्स को पिछले साल जेल से रिहा कर दिया गया, जब असली आरोपी को सामने लाया गया. अब इतने लंबे समय तक जेल की सजा काटने के एवज में जोन्स ने कंसास कोर्ट में याचिका दाखिल कर 11 लाख डॉलर मुआवजे की रकम मांगी है. जोन्स फिलहाल 42 साल के हैं और अपनी जिंदगी को फिर से पटरी पर लाने की कोशिश कर रहे हैं.

जब जोन्स जेल गए थे तब 25 साल के थे. उनकी दो बेटियां हैं जिनकी उम्र फिलहाल 24 और 19 साल है. जोन्स ने बीते गुरुवार को कहा कि इस घटना से मेरी जिंदगी के बहुमूल्य समय छिन गए जिसे मैं कभी वापस नहीं लौटा सकता. मैं रोजाना की जिंदगी में खुद को फिर से खड़ी करने की कोशिश कर रहा हूं. उनका कहना है कि मैं अभी एक जिम्मेदार पिता की भूमिका निभाने की कोशिश कर रहा हूं. अपने बच्चों के साथ हमेशा बना रहना चाहता हूं.

जोन्स के वकील रिचर्ड एन्सवर्थ ने गुरुवार को कहा कि उन्हें कोर्ट से जोन्स के बरी होने की काफी उम्मीदें थी. आखिरकार जोन्स को निर्दोष होने का प्रमाण-पत्र मिल गया और अब वह आम जिंदगी की शुरुआत दोबारा कर सकेंगे. वह उस अपराध के लिए 17 साल जेल में रहे जिसको उन्होंने कभी किया ही नहीं. जोन्स के साथ हुई इस घटना ने निर्दोष को सजा होने के मामले में अमेरिका की न्यायिक प्रणाली की आंखें खोल दी हैं.

loading...